साधना | Kundli Milan

Category Archive: साधना

Jan 14

रामायण

रामायण रामायण कवि वाल्मीकि द्वारा लिखा गया संस्कृत का एक अनुपम महाकाव्य है। इसके 24,000 श्लोक हिन्दू स्मृति का वह अंग हैं जिसके माध्यम से रघुवंश के राजा राम की गाथा कही गयी। कुछ भारतीय विद्वान कहते हैं कि यह 600 ईपू से पहले लिखा गया।उसके पीछे युक्ति यह है कि महाभारत जो इसके पश्चात …

Continue reading »

Jan 13

महालक्ष्मी

महालक्ष्मी लक्ष्मी देवनागरी सहबद्धता देवी/शक्ति आवास बैकुंठ शस्त्र कमल पति/पत्नि विष्णु पर्वत उल्लू समुद्र मंथन से लक्ष्मी जी निकलीं। लक्ष्मी जी ने स्वयं ही भगवान विष्णु को वर लिया। विष्णु – लक्ष्मी विवाह लक्ष्मी हिन्दू धर्म की एक प्रमुख देवी हैं । वो भगवान विष्णु की पत्नी हैं और धन, सम्पदा, शान्ति और समृद्धि की …

Continue reading »

Jan 13

महामृत्युंजय मंत्र

महामृत्युंजय मंत्र ॥ इति महामृत्युंजय जपविधिः ॥ महामृत्युंजय मंत्र के जप व उपासना के तरीके आवश्यकता के अनुरूप होते हैं। काम्य उपासना के रूप में भी इस मंत्र का जप किया जाता है। जप के लिए अलग-अलग मंत्रों का प्रयोग होता है। मंत्र में दिए अक्षरों की संख्या से इनमें विविधता आती है। यह मंत्र …

Continue reading »

Jan 05

लक्ष्मी एवं कुबेर साधना

लक्ष्मी एवं कुबेर साधना हिन्दू धर्म के सभी देवताओं के विशेष पर्व पर उनकी पूजा-अर्चना की जाती है। जैसे नवरात्र में देवी की, श्रवण में भगवान शिव की, कार्तिक में लक्ष्मी-नारायण की, भाद्रपद में गणेश की, ठीक उसी तरह कार्तिक बदी तेरस को दीपावली पर लक्ष्मी के साथ निधिपति राजाधिराज कुबेर की पूजा-अर्चना की जाती …

Continue reading »

Jan 05

तंत्र-मंत्र से ज्ञान-विद्या की प्राप्ति

तंत्र-मंत्र से ज्ञान-विद्या की प्राप्ति कमजोर विद्यार्थियों के लिए आसान विधि आज के युग में तंत्र-मंत्र पर विद्यार्थीगण कम विश्वास करते हैं तथा सरस्वती साधना भी आसान नहीं होती, जिसे प्रत्येक कर सके। जनसाधारण तथा कमजोर विद्यार्थियों हेतु एक आसान विधि का वर्णन किया जा रहा है, जिससे साधक को निश्चित लाभ होगा। गणेश भगवान …

Continue reading »

Jan 03

मोहिनी सफलता

मोहिनी एकादशी-बिगड़ते रिश्तों को थामें” “प्रेम का रहस्य मंत्र” बिछुड़ी मुहब्बत मिल जायेगी बिछड़े यार भी मिल जायेंगे नए रिश्तों को मिलेगी मजबूती प्रेम के तीर भी चल जायेंगे रिश्तों में आई दरार मिट जायेगी क्योंकि आ गयी है मोहिनी एकादशी देव दानव समुद्र मंथन की तैयारियां कर रहे थे, क्षीर सागर में शेष शैय्या …

Continue reading »

Jan 03

सपने का अर्थ

सपने का अर्थ .हर सपना कुछ-न कुछ कहता है। कुछ सपने निराशा देते हैं, तो कुछ जीवन में खुशियों की लहरभर देते हैं। सपनों का संबंध आत्मा से होता है। जब व्यक्ति नींद में होता है, तब उसका शरीर आत्मा से अलग होता है, क्योंकि आत्मा कभी सोती नहीं। जब मानव निद्रावस्था में होता है …

Continue reading »

Jan 03

शुभाशुभ स्वप्न फल

शुभाशुभ स्वप्नों के पुराणोक्त फल शुभाशुभ स्वप्नों के पुराणोक्त फल जागृतावस्था में देखे, सुने एवं अनुभूत प्रसंगों की पुनरावृत्ति, सुषुप्तावस्था में मनुष्य को किसी न किसी रूप में एवं कभी-कभी बिना किसी तारतम्य के, शुभ और अशुभ स्वप्न के रूप में, दिग्दर्शित होती है, जिससे स्वप्न दृष्टा स्वप्न में ही आह्‌लादित, भयभीत और विस्मित होता …

Continue reading »

Jan 03

स्वप्न- विचार ?

स्वप्न-विचारः सपने क्यूँ आते हैं? इन्सान मे यह गुण है कि वह सपनों को सजाता रहता है या यूँ कहे कि भीतर उठने वाली हमारी भावनाएं ही सपनो का रूप धारण कर लेती हैं । इन उठती भावनाओं पर किसी का नियंत्रण नही होता । हम लाख चाहे,लेकिन जब भी कोई परिस्थिति या समस्या हमारे …

Continue reading »

Dec 30

स्वप्न साधना

photo24[1]

आप सपने में देख सकेंगे सबका भविष्य कैसा रहे अगर आपको अपनी सारी परेशानियों के समाधान सपनो में ही मिलने लगे। प्रमोशन मिलने के पहले ही पता चल जाए कि आप का प्रमोशन किस तारीख को होगा। आपका लिया हुआ कोई फैसला आपको फायदा देगा या नुकसान अगर पहले ही पता चल जाए तो लाइफ …

Continue reading »

Switch to our mobile site