मंत्र | Kundli Milan

Category Archive: मंत्र

Jan 14

रामायण

रामायण रामायण कवि वाल्मीकि द्वारा लिखा गया संस्कृत का एक अनुपम महाकाव्य है। इसके 24,000 श्लोक हिन्दू स्मृति का वह अंग हैं जिसके माध्यम से रघुवंश के राजा राम की गाथा कही गयी। कुछ भारतीय विद्वान कहते हैं कि यह 600 ईपू से पहले लिखा गया।उसके पीछे युक्ति यह है कि महाभारत जो इसके पश्चात …

Continue reading »

Jan 13

महालक्ष्मी

महालक्ष्मी लक्ष्मी देवनागरी सहबद्धता देवी/शक्ति आवास बैकुंठ शस्त्र कमल पति/पत्नि विष्णु पर्वत उल्लू समुद्र मंथन से लक्ष्मी जी निकलीं। लक्ष्मी जी ने स्वयं ही भगवान विष्णु को वर लिया। विष्णु – लक्ष्मी विवाह लक्ष्मी हिन्दू धर्म की एक प्रमुख देवी हैं । वो भगवान विष्णु की पत्नी हैं और धन, सम्पदा, शान्ति और समृद्धि की …

Continue reading »

Jan 13

महामृत्युंजय मंत्र

महामृत्युंजय मंत्र ॥ इति महामृत्युंजय जपविधिः ॥ महामृत्युंजय मंत्र के जप व उपासना के तरीके आवश्यकता के अनुरूप होते हैं। काम्य उपासना के रूप में भी इस मंत्र का जप किया जाता है। जप के लिए अलग-अलग मंत्रों का प्रयोग होता है। मंत्र में दिए अक्षरों की संख्या से इनमें विविधता आती है। यह मंत्र …

Continue reading »

Jan 05

यंत्रों से हल

यंत्रों के द्वारा परेशानियां दूर करना सर्व सिद्धिदाता लक्ष्मी प्रदाता यंत्र आपको पन्द्रह के नम्बर के बारे में पता होगा,यह संख्या हमेशा से ऊनी गिनी जाती है,और इस यन्त्र के अन्दर एक से लेकर नौ तक की संख्याओं को इस प्रकार से लिखा जाता है,कि जिधर से भी जोडा जाये,सभी तरफ़ से जोड का योग …

Continue reading »

Jan 05

तंत्र-मंत्र से ज्ञान-विद्या की प्राप्ति

तंत्र-मंत्र से ज्ञान-विद्या की प्राप्ति कमजोर विद्यार्थियों के लिए आसान विधि आज के युग में तंत्र-मंत्र पर विद्यार्थीगण कम विश्वास करते हैं तथा सरस्वती साधना भी आसान नहीं होती, जिसे प्रत्येक कर सके। जनसाधारण तथा कमजोर विद्यार्थियों हेतु एक आसान विधि का वर्णन किया जा रहा है, जिससे साधक को निश्चित लाभ होगा। गणेश भगवान …

Continue reading »

Jan 05

कृष्ण-मंत्र प्रयोग

प्राप्ति हेतु कृष्ण-मंत्र और उनके प्रयोग यहां हमने श्रीकृष्ण के विभिन्न मंत्र दिए हैं। ये मंत्र मंत्रों के जाप से सुख-सौभाग्य की प्राप्ति होती है। शुभ प्रभाव बढ़ाने व सुख प्रदान करने में ये मंत्र अत्यन्त प्रभावी माने जाते हैं। आपकी सुविधा के लिए हमने मंत्र से संबंधित जानाकारी भी यहां दी है। भगवान श्रीकृष्ण …

Continue reading »

Jan 05

मन्त्र रामायण

मन्त्र रामायण श्रीराम सिद्ध मन्त्र , मानस के सिद्ध ‘मन्त्र’ . श्री रामचरित मानस के सिद्ध ‘मन्त्र’ नियम- मानस के दोहे-चौपाईयों को सिद्ध करने का विधान यह है कि किसी भी शुभ दिन की रात्रि को दस बजे के बाद अष्टांग हवन के द्वारा मन्त्र सिद्ध करना चाहिये। फिर जिस कार्य के लिये मन्त्र-जप की …

Continue reading »

Jan 03

दुर्गा के सिद्ध मन्त्र

माँ दुर्गा के लोक कल्याणकारी सिद्ध मन्त्र १॰ बाधामुक्त होकर धन-पुत्रादि की प्राप्ति के लिये “सर्वाबाधाविनिर्मुक्तो धनधान्यसुतान्वित:। मनुष्यो मत्प्रसादेन भविष्यति न संशय:॥” (अ॰१२,श्लो॰१३) अर्थ :- मनुष्य मेरे प्रसाद से सब बाधाओं से मुक्त तथा धन, धान्य एवं पुत्र से सम्पन्न होगा- इसमें तनिक भी संदेह नहीं है। २॰ बन्दी को जेल से छुड़ाने हेतु “राज्ञा …

Continue reading »

Jan 03

मंत्र

मंत्र ॐ रं रं रं रं रं रं रं रं मम्‌ कष्ट स्वाहा ( रं – ८[आठ] बार है) १०८ बार जप करने से कष्ट मिटने में मदद मिलती है । यदि किसी और के लिये जप रहे है, तो ‘मम’ के स्थान पर उनके ‘नामस्य’, कहना चाहिए । उदाहरण के लिये : जैसे अगर …

Continue reading »

Dec 24

राशि के अनुसार मंत्र

राशि के अनुसार मंत्र यदि व्यक्ति राशि के अनुसार मंत्र जाप करे तो शीघ्र सफलता मिलती है। मंत्र पाठ से व्यक्ति हर प्रकार के संकट से मुक्त रहता है। आर्थिक रूप से संपन्न हो जाता है। साथ ही जो आपके मार्ग में रोड़ा अटकाते हैं, वे भी इस जाप से नतमस्तक हो जाते हैं। यदि …

Continue reading »

Switch to our mobile site